एशेज में टूटेगी 142 साल पुरानी परंपरा, होगा ये बड़ा बदलाव

लंदन (nainilive.com)- इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया की क्रिकेट टीमें 142 साल की परंपरा को तोड़ते हुए इस साल गर्मियों में होने वाली एशेज सीरीज के दौरान नाम और जर्सी नम्बर के साथ मैदान पर उतर सकती हैं. ब्रिटेन के समाचार पत्र गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड तथा क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने इस सम्बंध में एक प्रस्ताव पेश किया है और अब इस पर आईसीसी बोर्ड की मुहर लगनी बाकी है.

अगर ऐसा हुआ तो आईसीसी की नई विश्व चैम्पियनशिप के तहत एक अगस्त से खेली जाने वाली एशेज सीरीज के दौरान इस नए चलन के साथ पहली बार खेलती नजर आएंगी. टेस्ट मैचों की शुरुआत 1877 में मेलबर्न में हुई थी और तब से लेकर आज तक टेस्ट मैचों में टीमें सफेद या फिर क्रीम रंग की जर्सी में खेलती हैं. टी-20 और वनडे क्रिकेट की तरह खिलाड़ियों की जर्सी पर उनका नाम या फिर जर्सी नम्बर अंकित नहीं होता.

वनडे क्रिकेट भी शुरुआत में टेस्ट क्रिकेट की तरह सफेद जर्सी में खेला जाता था लेकिन ऑस्ट्रेलिया में हुई सुपर सीरीज और 1992 के क्रिकेट वर्ल्ड कप के बाद रंगीन जर्सी का इस्तेमाल होने लगा. इसके बाद नब्बे के दशक में फुटबॉल की तरह खिलाड़ियों की जर्सी में नंबर के साथ-साथ नाम लिखने की शुरुआत हुई थी. 1999 में इंग्लैंड में आयोजित आईसीसी क्रिकेट वर्ल्डकप के दौरान पहली बार आईसीसी टूर्नामेंट में आधिकारिक तौर पर नंबर और नाम जर्सी पर लिखे गए थे.

Shortlink http://q.gs/En5Vh

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*