नोटबंदी में रद्दी हो गए सबसे बड़ी ट्रेन डकैती के करोड़ों रुपये

नई दिल्ली (nainilive.com)- 2 साल पहले तमिलनाडु में एक बड़ी ट्रेन डकैती हुई थी. चलती ट्रेन से आरबीआई के करोड़ों रुपये पार कर दिए गए थे. जीआरपी और सिविल पुलिस डकैती का राज खोलने में नाकाम रही थी. 2 साल बाद सीबीसीआईडी ने केस को खोला है. लेकिन 2 महीने बाद ही डकैती के रुपये रद्दी हो गए. नवंबर में नोटबंदी लागू हो गई. पकड़े गए बदमाशों ने इसका खुलासा किया है.

8 अगस्त, 2016 को सेलम-चेन्नई एक्सप्रेस में डकैती पड़ी थी. ट्रेन की पॉर्सल वैन में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) के 345 करोड़ रुपये जा रहे थे. नोटों की सुरक्षा के लिए ट्रेन में हथिय़ारों से लैस 18 गॉर्ड भी थे. लेकिन रात के किसी वक्त पॉर्सल वैन से 5 करोड़ से अधिक के 500 और 1000 रुपये के नोट गायब हो गए.

जांच में सामने आया कि बोगी की छत काटकर डकैती डाली गई है. शुरुआती जांच रेलवे पुलिस जीआरपी ने की. उसके बाद चेन्नई की सिविल पुलिस ने जांच की, लेकिन उसके हाथ भी कुछ नहीं लगा. इसके बाद जांच की जिम्मेदारी सीबीसीआईडी को दी गई. कई महीने की मशक्कत के बाद सीआईडी देश की सबसे बड़ी ट्रेन डकैती का राज खोलने में कामयाब हुई है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*