Pegasus APP पर जारी है सियासत,,,बोली कैंद्र,,,कराते है मॉनिटरिंग…नहीं बता सकते सॉफ्टवेयर का नाम

Share this! (ख़बर साझा करें)

National न्यूज़ डेस्क ( nainilive.com )– पेगासस एप का मामला दिन-ब-दिन तुल पकड़ता जा रहा है। आए दिन राजनैतिक दल पेगासस को लेकर सरकार पर जमकर निशाना भी सधते हुए नजर आ रहे है। जिसका मामला भी सुप्रिम कोर्ट में चल रहा है। वही अब इसमें केंद्र सरकार का बयान सामने आया है और उन्होनें कहा कि आतंकवाद से लड़ने और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए संगठनों की मॉनिटरिंग कराई जाती है। लेकिन मॉनिटरिंग किस सॉफ्टवेयर से कराते है। उसका नाम नहीं बता सकते। केंद्र सरकार ने कहा कि मॉनिटरिंग के लिए बहुत सारे सॉफ्टवेयर का प्रयोग किया जाता है, जो कि देश हिते के लिए काफी जरूरी है। लेकिन याचिकाकर्ता चाहते हैं कि उस सॉफ्टवेयर का नाम बताए। जिससे वह मॉनिटरिंग कराते है। परंतु यह बता सर्वजानिक कर के क्या हम उन संगठनों को सतर्क नहीं कर देंगे, जिनकी हम मॉनिटरिंग कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  बिग ब्रेकिंग : भाजपा ने हरक सिंह रावत को किया बर्खास्त

वही भारत सरकार की द्वारा कहा गया कि ​कोई भी देश यह जानकारी सार्वजनिक नहीं करता कि कौन सा सॉफ्टवेयर प्रयोग में और कौन सा नहीं। मगर उनकी यही एक मांग है कि जानकारी दी जाए, यह प्रार्थना क्यों की गई है, इस बारे में वह नहीं जानते। आगे कहा कि सार्वजनिक रूप से जानकारी नहीं दी जा सकती न ही सर्वोच्च कोर्ट से यह उम्मीद की जाती है कि वह सरकार से यह जानकारी सार्वजनिक करने के लिए कहे।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में अग्रिम आदेशों तक सभी स्कूल हुए बंद , सिर्फ ऑनलाइन माध्यम से होगी पढ़ाई

दरअसल विपक्षियों द्वारा सरकार पर जासूसी करने का रोप लगया जा रहा है और कहा कि भी जा रहा है कि सरकार आगामी चुनवा के मद्देनजर सरकार अन्य राजनीतिक दलों की जासूसी करा रही है

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड कोरोना अपडेट : उत्तराखंड में आज आये 4482 कोरोना संक्रमित , 6 की हुई मौत
नैनी लाइव (Naini Live) के साथ सोशल मीडिया में जुड़ कर नवीन ताज़ा समाचारों को प्राप्त करें। समाचार प्राप्त करने के लिए हमसे जुड़ें -

👉 Join our WhatsApp Group

👉 Subscribe our YouTube Channel

👉 Like our Facebook Page

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments