भैरव सेना ने यूट्यूब ब्लॉगर रिया मावी के द्वारा यूट्यूब पर डाले गए केदारनाथ मंदिर की व्यवस्था के विषय में उठाए गए सवालों के संबंध में साइबर सेल देहरादून को दी तहरीर

Advertisement
Share this! (ख़बर साझा करें)

देहरादून ( nainilive.com )- भैरव सेना के द्वारा यूट्यूब ब्लॉगर रिया मावी के द्वारा यूट्यूब पर डाले गए केदारनाथ मंदिर की व्यवस्था के विषय में उठाए गए सवालों के संबंध में साइबर सेल देहरादून को तहरीर दी गई, जिसमें प्रदेश अध्यक्ष संदीप खत्री ने कहा कि सोशल मीडिया के माध्यम से जिला अध्यक्ष आचार्य उमाकांत भट्ट एवं प्रभारी रष्टी सिंह को यूट्यूब ब्लॉगर एवं एक्ट्रेस रिया मावी का एक वीडियो संज्ञान में आया जिसमें उनके द्वारा उत्तराखंड के पवित्र धाम केदारनाथ की व्यवस्थाओं के विषय में धार्मिक स्थल को बदनाम करने व धर्मांतरण करने के उद्देश्य से सवाल उठाए गए हैं, जिसका भैरव सेना पूर्ण रुप से विरोध करती है. मावी के द्वारा कहां गया है कि मंदिर के पुजारियों के द्वारा पूजा के लिए अधिक दक्षिणा मांगने दक्षिणा ना देने पर गौर ना करने व विशेष पूजा के लिए अधिक पैसे लेने साथ ही मंदिर के चढ़ावे के लिए दी जा रही पूजा-पाठ की वस्तुओं पर भी अधिक मूल्य लेने का आरोप लगाया गया है जोकि सरासर गलत है. प्रदेश अध्यक्ष संदीप खत्री ने कहा कि बद्री केदार समिति सरकार के अधीन है, जो कि नियमानुसार चढ़ावे बिक्री की व्यवस्था की गई है. जैसा कि हम सभी जानते हैं अति दुर्गम क्षेत्र होने के कारण एवं मात्र 6 माह के लिए मंदिर प्रांगण खुलता है और दूसरा कोई रोजगार का साधन ना होना तथा व्यवस्था को बनाए रखने के लिए सारी व्यवस्था समिति के द्वारा नियमानुसार की गई है. मंदिर के पुजारियों पर जो गलत आरोप लगाए गए हैं और उनके देखने के तरीकों को भी गलत व अभद्र बताया गया है.

Advertisement


जिलाध्यक्ष आचार्य उमाकांत भट्ट ने कहा कि उक्त बयान से उत्तराखंड के पवित्र धाम की छवि को खराब करने की कोशिश की जा रही है, जिसको किसी भी रूप में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। रष्टी सिंह के अनुसार केदारनाथ मंदिर जिस जगह पर स्थित है वह स्थान सिर्फ पर्यटक व भक्तों पर ही निर्भर है. अतः क्षेत्र के व्यवसायियों के द्वारा जो समान वहां बेचा जाता है, वह घोड़े खच्चरों के द्वारा मंदिर परिसर तक पहुंचाया जाता है, जिसमें काफी किराया भाड़ा और शारीरिक मेहनत लगती है. केदारनाथ मंदिर 12 ज्योतिर्लिंगों में सम्मिलित वह विश्व विख्यात है जिसमें लाखों करोड़ों की संख्या में श्रद्धालु दर्शन के लिए पहुंचते है। एक्ट्रेस को यूट्यूब के लिए वीडियो बनाने का समय नहीं मिल पाया, जिस कारण इनके द्वारा मंदिर के व्यवस्थाओं पर अनाप-शनाप टिप्पणी की गई है, जिससे कि लाखों करोड़ों भक्तों की आस्था को ठेस पहुंची है. उक्त घटना के द्वारा यूट्यूब ब्लॉगर पर 295A, 120B के तहत धार्मिक भावनाएं भड़काने एवं धर्मांतरण के लिए प्रेरित करने के लिए संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर कानूनी कार्यवाही करने की मांग की गई. साथ ही भाजपा नेता हिमांशु मल्होत्रा ने कहा की हिन्दु धार्मिक स्थल व पुजारियो का अपमान निदंनीय टिप्पणी किसी भी हाल मै बर्दाश्त नही जाएगी, जिसका पूरे उत्तराखंड व उत्तर प्रदेश मै पूर्ण विरोध किया जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉  काठगोदाम से देहरादून जनरथ (एसी) सेवा शुरू
Advertisement
नैनी लाइव (Naini Live) के साथ सोशल मीडिया में जुड़ कर नवीन ताज़ा समाचारों को प्राप्त करें। समाचार प्राप्त करने के लिए हमसे जुड़ें -

👉 Join our WhatsApp Group

👉 Subscribe our YouTube Channel

👉 Like our Facebook Page

Subscribe
Notify of
3 Comments
Inline Feedbacks
View all comments