उत्तराखण्ड लोक वाहिनी ने अग्निपथ योजना को राष्ट्रहित मे वापस लेने की मांग की

Share this! (ख़बर साझा करें)

अजयमित्र सिंह बिष्ट , अल्मोड़ा ( nainilive.com )- उत्तराखण्ड लोक वाहिनी ने अग्निपथ योजना को राष्ट्रहित मे वापस लेने की मांग की है साथ ही हल्द्वानी में बेरोजगार नौजवानों पर लाठीचार्ज की कड़ी निन्दा की । वाहनी की एक बैठक मे इस योजना के दुष्परिणामों पर चर्चा की गई वक्ताओं ने कहा कि भारतीय सेना कोई रोजगार नही एक सैन्य परम्परा है , सैन्य परिवारों का सेना के साथ एक पारम्परिक जुड़ाव है, भारतीय सेना एक परिवार की तरह काम करती है । अपने देश व सहकर्मी सैनिक की हिफाजत के लिये जज्बाती होती है । यह जोश के साथ होश की कार्यशैली की विकास है । इसके लिये राजाओं के जमाने से लेकर आजाद भारत मे भी इलाकाई रेजिमैन्ट काम करती रही है ये सेनाये मान मर्यादा व निशान के लिये जज्बाती होती यही जज्बात उन्हें युद्ध मे अजेय बनाता है ।

Ad
Ad

भारतीय सेना के रेजिमैन्टो की अलग – अलग कार्यशैली अपने अपने गुणों के कारण दुश्मन देशों के लिये एक पहेली बन जाती है ।सेना का चरित्र अपनी भौगोलिक परम्परा व राष्ट्र का मिलाजुला चरित्र है । ,अत: सरकार को सेना के चाल चरित्र व व्यवस्था बदलने से पहले कई बिन्दुओं पर विचार करना चाहिये । वाहनी ने कहा कि राष्ट्रभक्ति मनवाने की बात नही, मन का गुण है ।
भारत की यूरोप, अमेरिका आदि देशों से तूलना करना इसलिये गलत है कि उन देशों व भारत की सामाजिक परम्पराओं मे बहुत अन्तर है ।

वाहनी सरकार से माग करती है कि वह सेना मे संविदा की तरह नही पूर्णकालिक भर्ती करें । सेना के रेजिमैन्टस चरित्र को बनाये रखे क्योकि इनका सैकड़ो सालों का इतिहास है, सेना से सेवानिवृत्त सैनिको को या तो रोजगार की गारन्टी दे, या फिर जब तक वे रोजगार दुवारा नही पा लेते उन्हें बेरोगारी भत्ता व पेन्शन दें , जैसे कि युरोप आदि देशों में दिया जाता है । वाहनी की बैठक का संचालन दयाकष्ण काण्डपाल ने किया , बैठक मे जगत रौतेला , पूरन चन्द्र तिवारी जंगबहादुर थापा ,अजयमित्र , कुणाल तिवारी,अजय मेहता , बिशन दत्त जोशी , हरीश मेहता , हारिस मुहम्मद आदि थे। बैठक की अध्यक्षता रेवती बिष्ट ने की ।

Ad
Ad
यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल जिले में बिजली चोरी के 1500 से मामले,114 पर FIR
नैनी लाइव (Naini Live) के साथ सोशल मीडिया में जुड़ कर नवीन ताज़ा समाचारों को प्राप्त करें। समाचार प्राप्त करने के लिए हमसे जुड़ें -

👉 Join our WhatsApp Group

👉 Subscribe our YouTube Channel

👉 Like our Facebook Page

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments