जैव विविधता है जीवन का मूल आधार – प्रो ललित तिवारी

Share this! (ख़बर साझा करें)

न्यूज़ डेस्क , नैनीताल ( nainilive.com )- कुमाऊं विश्वविद्यालय के प्रो ललित तिवारी ने मानव संसाधन विकास केंद्र द्वारा आयोजित फैकल्टी इंडक्शन कार्यक्रम में दो व्याख्यान दिए । प्रो तिवारी ने कहा कि जैव विविधता जीवन का मूल आधार है तथा समस्त जीवों का जीवन इससे जुड़ा हुआ है। सिर्फ एक पृथ्वी जो जीवन को सुरक्षित रखती है उससे संरक्षित एवं सतत विकास के क्रम में सुरक्षित करना आज के मानव की महत्पूर्ण जिमवेदारी है। अगले नौ वर्ष में ३५० मिलियन हेक्टेयर बंजर हो चुकी भूमि के पारिस्थितिक तंत्र को पुनर्जीवित कर १३से २६ गिगांटन ग्रीन गैस कम करने का प्रयास होगा तो सन २१०० तक तापक्रम वृद्धि २ डिग्री तक रुक जाएं ये बड़ी चुनौती है।

Ad
Ad

जैव विविधता संरक्षण संरक्षण ही ग्लोबल गर्मी ,जलवायु परिवर्तन को कम कर सकता है।उन्होंने कहा कि प्राकृतिक संसाधन का संरक्षण ,सभी की समान हिस्सेदारी से जैव विविधता संरक्षित की जानी चाहिए। प्रो तिवारी ने अनुवांशिक ,जातीय ,पारिस्थिक जैव विविधता के साथ अल्फा बीटा ,गामा जैव विविधता बताई तथा कहा कि जैव विविधता प्रतिवर्ष ९० बिलियन डॉलर की कार्बन को सोखती है तो भोजन एवं फार्मा से ३६ बिलियन डॉलर देते है।

हिमान आयुर्वेदा क्लिनिक
हिमान आयुर्वेदा क्लिनिक

उन्होंने कहा की भारत में २०.५५ प्रतिसत तथा १६ प्रकार के वन पाए जाते है जबकि एक तिहाई होना जरूरी है तो उत्तराखंड में ४१प्रतिसत वन १३ प्रतिसत बुग्याल ११प्रतिसत बर्फ ग्लेशियर के रूप में मिलती थी।जो ६५ प्रतिसत की हिस्सेदारी करती है। उत्तराखंड में १००० से २००० मीटर तक वन का घनत्व सर्वाधिक है ,पिथौरागढ़ में सबसे ज्यादा २३१६ पौधे प्रजातियां मिलती है। यहां की १३.७९ प्रतिसत भाग को संरक्षित क्षेत्र में रखा गया है।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल में मानसून की पहली बारिश ने व्यवस्थाओं की खोली पोल

मेडिसिनल पौधो का जिक्र करते हुए उन्होंने बताया कि इनका उल्लेख सुमेरियन सभ्यता से मिलता है सुसूत्रा संहिता में ७०० मेडिसिनल पौधे का जिक्र मिलता है ।आज भारत में ७५०० उत्तराखंड में ७०१ मेडिसिनल पौधे है यह क्षेत्र २०५० तक ५ ट्रिलियन डॉलर की आर्थिकी बना सकते है तथा १० करोड़ लोग इसके लाभान्वित हो सकते है इसके लिए उत्पादन ,नियोजन ,विपणन की प्रक्रिया को मजबूत करना होगा।ऑनलाइन माध्यम से आयोजित इस कार्यक्रम में विभिन राज्यों के सहायक प्राध्यापक प्रतिभाग कर रहे है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में मिला अज्ञात व्यक्ति का शव, पुलिस तफ्तीश में जुटी
Ad
Ad
नैनी लाइव (Naini Live) के साथ सोशल मीडिया में जुड़ कर नवीन ताज़ा समाचारों को प्राप्त करें। समाचार प्राप्त करने के लिए हमसे जुड़ें -

👉 Join our WhatsApp Group

👉 Subscribe our YouTube Channel

👉 Like our Facebook Page

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments