ब्लैक फंगस से निबटने के लिए IIT हैदराबाद ने बनाया ओरल सॉल्यूशन

Share this! (ख़बर साझा करें)

न्यूज़ डेस्क ( nainilive.com )- हैदराबाद के भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान में शोधकर्ताओं ने ब्लैक फंगस/म्यूकरमाइकोसिस के इलाज के लिए एक ओरल सॉल्यूशन तैयार किया है और वे इस टेक्नोलॉजी को ट्रांसफर करने के लिए तैयार हैं। बीते शनिवार को जारी एक रिलीज में उन्होंने कहा कि 60 मिलीग्राम की यह दवा मरीज के लिए अनुकूल होती है और शरीर में धीरे-धीरे नेफ्रोटॉक्सिसिटी (किडनी पर दवाओं और केमिकल्स के दुष्प्रभाव) को कम करती है। इस दवा की कीमत करीब 200 रुपये है। रासायनिक अभियान्त्रिकी विभाग के प्रोफेसर सप्तर्षि मजूमदार और डॉ चंद्रशेखर शर्मा ने कालाजार के लिए प्रभावी रहने वाली नैनोफाइब्रस AMB दवा के बारे में प्रमाणिक अध्ययन किया है।

यह भी पढ़ें 👉  आखिकार राज कुंद्रा को मिली जमानत...बिजनेसमैन की आंखों में दिखे आंसू

इस विषय पर जानकारी देते हुए संस्थान ने कहा, “दो साल के अध्ययन के बाद रिसर्चर्स इस बात को लेकर आश्वस्त हैं कि इस टेक्नोलॉजी को बड़े स्तर पर उत्पादन के लिए उचित फार्मा साझेदारों को ट्रांसफर किया जा सकता है। इस विषय में आगे बताते हुए उन्होंने कहा, “फिलहाल देश में ब्लैक और अन्य तरह के फंगस के इलाज के लिए कालाजार के इलाज का इस्तेमाल किया जा रहा है और इसकी उपलब्धता और किफायती दर को देखते हुए इस दवा के इमरजेंसी और तत्काल ट्रायल की अनुमति दी जानी चाहिए।”

बौद्धिक संपदा अधिकार से मुक्त है टेक्नोलॉजी

यह भी पढ़ें 👉  आखिकार राज कुंद्रा को मिली जमानत...बिजनेसमैन की आंखों में दिखे आंसू

डॉ चंद्रशेखर शर्मा ने कहा कि ये टेक्नोलॉजी बौद्धिक संपदा अधिकार से पूरी तरह से मुक्त है। ऐसा इसलिए, ताकि इसका व्यापक स्तर पर उत्पादन हो सके और जनता के लिए यह किफायती और सरलता से उपलब्ध रहे।

यह भी पढ़ें 👉  आखिकार राज कुंद्रा को मिली जमानत...बिजनेसमैन की आंखों में दिखे आंसू

साभार : पीबीएनएस

नैनी लाइव (Naini Live) के साथ सोशल मीडिया में जुड़ कर नवीन ताज़ा समाचारों को प्राप्त करें। समाचार प्राप्त करने के लिए हमसे जुड़ें -

👉 Join our WhatsApp Group

👉 Subscribe our YouTube Channel

👉 Like our Facebook Page

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments