हरेला पर्व पर विशेष – पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ

Ad
Share this! (ख़बर साझा करें)

प्रो0 ललित तिवारी, नैनीताल ( nainilive.com )- पेड़ धरती पर सबसे पुरानें जीव है औ ये कभी भी ज्यादा उम्र की वजह से नही मरते। हर वर्ष 5 अरब पेड़ लगाए जा रहे है लेकिन हर वर्ष 10 अरब पेड़ काटे भी जा रहे हैं। एक पेड़ दिन में इतनी आक्सीजन देता है कि चार आदमी जीवित रह सकें ।

दुनिया में सबसे अधिक पेड़ रूस में है उसके बाद कनाडा में , उसके बाद ब्राजील में, फिर अमेरिका में और उसके बाद भारत में केवल 35 अरब पेड़ बचे हैं। एक इंसान के लिए 422 पेड़ बचे है लेकिन अगर भारत की बात करें तो एक हिंदुस्तानी के लिए सिर्फ 28 पेड़ बचे हैं। पेड़ों की कतार धूल-मिट्टी के स्तर को 75 प्रतिशत तक कम कर देती है और 50 प्रतिशत तक शोर को कम करती है। एक पेड़ इतनी ठंडक पैदा करता है जितनी एक एसी 10 कमरों में 20 घंटो तक चलने पर करता है। जो इलाका पेड़ो से घिरा होता है वह दूसरे इलाकों की तुलना में 9 डिग्री तक ठंडा रहता है। पेड़ अपनी 10 प्रतिशत खुराक मिट्टी से और 90 प्रतिशत खुराक हवा से लेते है। एक एकड़ में लगे हुए पेड़ एक वर्ष में इतनी कार्बन डाइआक्साइड सोख लेते है जिनती एक कार 41000 किमी चलने पर छोड़ती है।

यह भी पढ़ें 👉  सड़क निर्माण कार्यों से जुड़े अभियंता सुनिश्चित करें कि जिले में यात्राऐं सुगम व सुरक्षित हों- डीएम युगल किशोर पंत

दुनिया की 20 प्रतिशत आक्सीजन अमेजन के वनों द्वारा पैदा की जाती है ये वन 8 करोड़ 15 लाख एकड़ में फैले हुए है। पेड़ की जड़े बहुत नीचे तक जा सकती है। दक्षिण अफ्रिका में एक अंजीर के पेड़ की जड़े 400 फीट नीचे तक पायी गयी थी। दुनिया का सबसे पुराना पेड़ स्वीडन के डलारना प्रांत में है। स्प्रूस का यह पेड़ 9,500 वर्ष पुराना है। किसी एक पेड़ का नाम लेना मुश्किल है लेकिन तुलसी, पीपल, नीम और बरगद दूसरो के मुकाबले अधिक आक्सीजन पैदा करते है। विश्व में वनोे की प्रतिशता 31 प्रतिशत, भारत में 20.88 प्रतिशत और उत्तराखण्ड में 65 प्रतिशत है। विश्व में पेड़ो की 60,065 प्रजातियाँ और भारत में 18,000 प्रजातियाँ पायी जाती है। भारत का राष्ट्रीय वृक्ष बरगद है। आयये इस धरा के पर्यावरण को बचाने के लिए एक वृक्ष का पौधा अवश्य लगाये।

यह भी पढ़ें 👉  भू कानून लागू करने की मांग, धरने पर बैठे उक्रांद कार्यकर्ता
Ad
नैनी लाइव (Naini Live) के साथ सोशल मीडिया में जुड़ कर नवीन ताज़ा समाचारों को प्राप्त करें। समाचार प्राप्त करने के लिए हमसे जुड़ें -

👉 Join our WhatsApp Group

👉 Subscribe our YouTube Channel

👉 Like our Facebook Page

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments