नैनीताल में आयी आपदा में देवदूत बनकर मदद के लिए सामने आयी भारतीय सेना की डोगरा रेजिमेंट

Ad
Share this! (ख़बर साझा करें)

न्यूज़ डेस्क , हल्द्वानी (nainilive.com )- नैनीताल जिले में लगातार बारिश के कारण कई भूस्खलन और सड़कें अवरुद्ध हो गई थी। सड़के कई स्थानों पर टूटने व मलवा आने के कारण नागरिक फंस गए। कई अलग-अलग जगहों पर मकान क्षतिग्रस्त हो गए और कुछ के हताहत होने की भी खबर मिली। स्थानीय प्रशासन, पुलिस, एसडीआरएफ को बचाव कार्य में लगाया गया, जिला प्रशासन, नैनीताल ने फंसे हुए नागरिकों को बचाने के लिए तुरंत सैन्य साहयता का अनुरोध किया। गरमपानी-खैरना-कैची इलाके के पास स्थिति बहुत गंभीर थी। घाटी प्रभावित हुई थी, नदी के अत्यधिक प्रवाह के कारण इमारतें खतरे में थीं।

यह भी पढ़ें 👉  सड़क निर्माण कार्यों से जुड़े अभियंता सुनिश्चित करें कि जिले में यात्राऐं सुगम व सुरक्षित हों- डीएम युगल किशोर पंत


जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल ने गत दिवस मंगलवार को 14 डोगरा रजीमेन्ट रानीखेत को खैरना, कैची, निगलाट व रामगढ ़क्षेत्र में रहात बचाव कार्य हेतु वार्ता की। मैजर नरेन्द्र व मैजर कोयाक के नेतृत्व में बटालियन की ओर से तुरन्त 100 जवानों की दो रेस्क्यू टीमों को प्रभावित इलाकों में जाने के आदेश दिए गए हैं। रानीखेत से सुबह 11 बजे 100 जवानों की रेस्क्यू टीम रवाना हुई, रास्ते में सड़क जाम होने की वजह से देरी से बचाव दल दोपहर करीब तीन बजे प्रभावित स्थल पर पहुंचा, आगमन पर सेना ने स्थानीय अधिकारियों से स्थिति की जानकारी ली। बिना किसी देरी के भारतीय सेना के जवानों ने खैरना में फंसे लगभग 500 लोगों को पैक किया हुआ भोजन और खाने का सामान व पानी वितरित किया।

यह भी पढ़ें 👉  कार्यालय में गन्दगी देख नाराज हुए मण्डलायुक्त दीपक रावत , जताई कड़ी नाराजगी

बटालियन की मेडिकल रिएक्शन टीम के प्रशिक्षित व्यक्तियों द्वारा चिकित्सा जांच कर चिकित्सा इकाई स्थापित कर लोगों का उपचार किया गया। घिंगरीखाल बटालियन के बचाव दल की तीन उप टीमों का गठन किया गया, जिन्होंने बचाव और राहत अभियान चलाया और गरमपानी और खैरना में फंसे लोगों की मदद की। खैरना से कैची धाम मार्ग बचाव और राहत कार्यों में बाधा डालने वाला प्रमुख चोक प्वाइंट था। भारतीय सेना के जवानों ने बचाव उपकरण और फंसे हुए लोगों के लिए भोजन,पानी जैसे राहत सामग्री के साथ खैरना से कैची धाम की दूरी पैदल तय कर निस्वार्थ सेवा की मिसाल पेश की। सभी फंसे हुए लोगों के लिए भोजन तैयार करने के लिए खैरना में एक कुक हाउस भी स्थापित किया गया था। सेना के पहुंचने और त्वरित बचाव कार्य कर फंसे हुए लोगों को निकाला गया।

यह भी पढ़ें 👉  दुःखद समाचार : वरिष्ठ पत्रकार आबाद जाफरी नहीं रहे
Ad
नैनी लाइव (Naini Live) के साथ सोशल मीडिया में जुड़ कर नवीन ताज़ा समाचारों को प्राप्त करें। समाचार प्राप्त करने के लिए हमसे जुड़ें -

👉 Join our WhatsApp Group

👉 Subscribe our YouTube Channel

👉 Like our Facebook Page

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments