नैनीताल पहुंचा आस्ट्रेलियाई कूट पक्षी -फोटोग्राफर रत्ना साह ने किया कैमरे में कैद

नैनीताल पहुंचा आस्ट्रेलियाई कूट पक्षी -फोटोग्राफर रत्ना साह ने किया कैमरे में कैद

नैनीताल पहुंचा आस्ट्रेलियाई कूट पक्षी -फोटोग्राफर रत्ना साह ने किया कैमरे में कैद

Share this! (ख़बर साझा करें)

रत्ना साह, नैनीताल ( nainilive.com )- नैनीताल पर्यटन स्थल के साथ-साथ बर्ड वॉचिंग के लिए भी प्रसिद्ध होता जा रहा है। यहां पक्षी एशिया से नही बल्कि विदेशों से भी हजारों मीलों की दूरी तय करके नैनीझील की सोभा बड़ा रहे है। इन दिनों नैनीताल की नैनीझील में यूरोप से उड़ान भरकर यहां पहुंचा यूरेशियन कूट शनिवार को नैनीझील में तैरता हुआ नजर आया। जिसको नगर की फोटोग्राफर रत्ना साह ने अपने कैमरे में कैद किया।


त्रिफला के फायदे :- त्रिफला है महाऔषधि I त्रिफला के फायदे I Trifala benefits in Hindi I Dr. Himani Pandey I https://youtu.be/BX0NbJ4suac

मुँहासे कैसे पाए छुटकारा – जाने मुंहासे ( Pimples ) के कारण , आयुर्वेदिक चिकित्सा practical tips के साथ https://youtu.be/WGEbUs98lBE

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी पहुंचे भाजपा प्रदेश अध्यक्ष कौशिक, कांग्रेस और आप को लेकर दिया ये बड़ा बयान

रत्ना ने बताया कि यूरेशियन कूट मूलत: यूरोपीय पक्षी है। यह पक्षी पहली बार नैनीताल दस हजार से बीस हजार किलोमीटर की दूरी तय करके यहां पहुंचा है। यह आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और उत्तरी अफ्रीका के कुछ हिस्सों में पाया जाता है। इस पक्षी की लम्बाई लंबाई 40 सेंटीमीटर तक पहुंच जाती है। वयस्कों में एक छोटी, मोटी सफेद चोंच होती है। माथे पर एक तरह का कवच होता है, जिसके ऊपरी हिस्से में आंखों के बीच में लाल-भूरे रंग का धब्बा होता है। कूट के पंजे पीले रंग के होते हैं। नर और मादा के आकार लगभग समान होते हैं। इसे यूरेशियन कूट, आम कूट या आस्ट्रेलियाई कूट के नाम से जाना जाता है। यह रेल और क्रेक बर्ड परिवार का एक सदस्य है।

जाने हल्दी सेवन के फायदे – हल्दी ( Turmeric ) है गुणकारी – पर ज्यादा मात्रा में सेवन से हो सकती है परेशानी I हल्दी के फायदे https://youtu.be/587nsmpGmus

यह भी पढ़ें 👉  लिफ्ट के बहाने पुलिस कर्मी ने लड़की के साथ छेड़खानी

यह भी पढ़ें : राज्य कैबिनेट की बैठक में लिए गए कई महत्वपूर्ण निर्णय , 18 से 45 वर्ष आयुवर्ग के सभी लोगों को लगेगा निशुल्क टीका

इन दिनों प्रवासी पक्षी शहर की झीलों, नदियों, पक्षी प्रवास के लिए नैनीताल में पहुंच रहे है। यह पक्षी मुख्य रूप से समुद्री शैवाल और अन्य जलीय पौधों को खाते है। ये पक्षी भोजन खोजने के लिए पानी के नीचे गोता लगाते हैं, और जमीन के अंदर से भोजन प्राप्त कर सकते हैं, क्योंकि वे सर्वाहारी हैं। कूट के आहार में आर्थ्रोपोड, मछली और अन्य जलीय जानवर शामिल हैं। प्रजनन के मौसम के दौरान वे जलीय कीड़े और मोलस्क खाना पसंद करते हैं। दक्षिणपूर्वी राज्यों में खेल के लिए कूटों की शूटिंग की जाती है।

यह भी पढ़ें 👉  किरायदार ने मकान मालिक पर लगाया नाबालिग से छेड़छाड़ व दुष्कर्म का आरोप

यह भी पढ़ें :उत्तराखंड सरकार एवं महानिदेशक सूचना ने की कोरोना संक्रमित पत्रकारों हेतु बड़ी पहल

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड कोरोना अपडेट : आज फिर कोरोना 5 हजार के पार

यह भी पढ़ें : ऑक्सीजन सिलिंडर एवं दवाओं की कालाबाजारी रूकने को लेकर नैनीताल जिला प्रशासन ने की बड़ी कार्यवाही

यह भी पढ़ें : नैनीताल जिले को मिली शासन द्वारा रेमडेसिविर की पहली खेप

यह भी पढ़ें : उत्तराखण्ड पुलिस ने अपने जवानों की ‘सेफ्टी’ के लिए बनाए अपने ‘कोविड केयर सेंटर’

नैनी लाइव (Naini Live) के साथ सोशल मीडिया में जुड़ कर नवीन ताज़ा समाचारों को प्राप्त करें। समाचार प्राप्त करने के लिए हमसे जुड़ें -

👉 Join our WhatsApp Group

👉 Subscribe our YouTube Channel

👉 Like our Facebook Page

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments