मुक्तिनाथ तीर्थ के कीजिये दर्शन वाईटीडीओ YTDO tours के साथ , जाने यात्रा का पूरा कार्यक्रम

Share this! (ख़बर साझा करें)

न्यूज़ डेस्क , नैनीताल ( nainilive.com )- अब नेपाल के प्रसिद्ध मुक्तिनाथ तीर्थ के दर्शन आप कर सकते हैं। जी हाँ सही सुना। नैनीताल की यात्रा के क्षेत्र में प्रसिद्ध ट्रेवल एजेंसी वाईटीडीओ YTDO tours के साथ आप अब नेपाल के मुक्तिनाथ तीर्थ की यात्रा कर सकते हैं। वाईटीडीओ YTDO tours ने नेपाल के मुक्तिनाथ यात्रा का प्रोग्राम लांच किया है। मुक्तिनाथ वैष्णव सम्प्रदाय के प्रमुख मंदिरों में से एक है। यह तीर्थस्थान शालिग्राम भगवान् के लिए प्रसिद्ध है। प्रथम बार शुरू हो रही इस यात्रा को लेकर खासे उत्साहित वाईटीडीओ YTDO tours के संचालक विजय मोहन सिंह खाती ने बताया की आठ दिवसीय यह मुक्तिनाथ ( मुस्तांग ) नेपाल यात्रा 1 जून से 8 जून 2022 के मध्य चलेगी।

Ad

इस यात्रा के मुख्य आकर्षण में मुक्तिनाथ मंदिर की यात्रा के साथ पोखरा , पशुपतिनाथ ( काठमांडू ) की यात्रा तथा धनगड़ी से पोखरा, पोखरा से जोम सोम , जोम सोम से काठमांडू हवाई यात्रा भी सम्मिलित है। यात्रा से सम्बंधित ज्यादा जानकारी के लिए आप वाईटीडीओ YTDO tours के मोबाइल नंबर 9412085088 , 9411197085 एवं कार्यालय नंबर 05942 -235557 पर संपर्क कर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

क्या और कहाँ हैं मुक्तिनाथ मंदिर –

यह भी पढ़ें 👉  कुमाऊं मंडल के बाल कल्याण समिति व किशोर न्याय बोर्ड के प्रतिनिधियों का प्रशिक्षण रहा दूसरे दिन भी जारी

ऐसा कहा जाता है कि मुक्तिनाथ मंदिर वैष्‍णव संप्रदाय के प्रमुख मंदिरों में से एक है। यह तीर्थस्‍थान भगवान शालिग्राम के लिए विश्व प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है। दरअसल शालिग्राम एक पवित्र पत्‍थर होता है जिसको हिंदू धर्म में पूजनीय माना जाता है। यह मुख्‍य रूप से नेपाल की ओर प्रवाहित होने वाली काली गण्‍डकी नदी में पाया जाता है। जिस क्षेत्र में मुक्तिनाथ मंदिर स्थित हैं उस खेत्र को मुक्तिक्षेत्र के नाम से जाना जाता हैं। पौराणिक हिंदू धार्मिक मान्‍यताओं के अनुसार यह वह क्षेत्र है, जहां लोगों को मुक्ति या मोक्ष प्राप्‍त होता है। मुक्तिनाथ की यात्रा काफी मुश्किल है। फिर भी हिंदू धर्मावलंबी बड़ी संख्‍या में यहां तीर्थाटन के लिए आते हैं। यात्रा के दौरान हिमालय पर्वत के एक बड़े हिस्‍से को लांघना होता है। यह हिंदू धर्म के दूरस्‍थ तीर्थस्‍थानों में से एक है।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल जिले में आयुष्मान योजना के अंतर्गत बने 432326 आयुष्मान कार्ड, पैंतीस करोड़ रूपये से अधिक का ईलाज हुआ निशुल्क प्रदान

कैसे करें यात्रा –

मुक्तिनाथ की यात्रा काफी मुश्किल है। फिर भी हिंदू धर्मावलंबी बड़ी संख्‍या में यहां तीर्थाटन के लिए आते हैं। यात्रा के दौरान हिमालय पर्वत के एक बड़े हिस्‍से को लांघना होता है। यह हिंदू धर्म के दूरस्‍थ तीर्थस्‍थानों में से एक तीर्थस्थान है। अगर आप भी मुक्तिनाथ मंदिर की यात्रा पर जाना चाहते हैं तो आप वाईटीडीओ YTDO tours के साथ इस यात्रा को कर सकते हैं। कंपनी हेलीकाप्टर के द्वारा इस यात्रा को संचालित कर रही है। हेलिकॉप्‍टर के द्वारा पोखरा-मुक्तिनाथ मार्ग या जोमसोम मार्ग से भी एक दिन में जाया जा सकता है। परंपरागत मार्ग में काफी चढ़ाई है , जिसे इस हेलीकाप्टर मार्ग की सेवा ने काफी सुगम बना दिया है। हालांकि अभी भी काफी श्रद्धालुजन परंपरागत चढ़ाई को ही प्राथमिकता देते हैं। चढ़ाई के समय दो अलग-अलग रास्‍ते मिलते हैं, जो काली गंडक नदी के पास तातोपानी नामक जगह पर जाकर आपस में मिल जाती है।

क्या हैं उपलब्ध सुविधाएं

यह भी पढ़ें 👉  कुमाऊँ मंडल क़ी बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष/सदस्यों व किशोर न्याय बोर्ड के सदस्यों हेतु 03 दिवस प्रशिक्षण कार्यक्रम का हुआ एटीआई नैनीताल में उद्घाटन

रास्‍ते में आमतौर पर सभी जगहों पर रुकने के लिए निजी लॉज मिल जाते हैं। ये लॉज सभी तरह की मुलभूत सुविधाएं मुहैया कराते हैं। कई बार तो यात्रियों के लिए काफी बेहतर सुविधाएं भी उपलब्‍ध कराई जाती हैं। इन सबके बावजूद तीर्थयात्रियों को अपने साथ स्लिपींग बैग भी जरूर ले जाना चाहिए ताकि किसी भी तरह के अतिरिक्‍त परेशानियों से बचा जा सके। यात्रा के दौरान मार्ग में पिट्ठू आसानी से उपलब्‍ध हो जाते हें। इन पिट्ठुओं को यात्रियों के द्वारा ही भोजन दिया जाता है। चूंकि इस मार्ग का उपयोग विदेशियों के द्वारा भी किया जाता है, अत: यहां खाने की अच्‍छी व्‍यवस्‍था होती है। भोजन में शाकाहारी और मांसाहारी दोनों तरह के भोजन उपलब्‍ध रहते हैं। इसके अलावा सीलबंद पानी भी आसानी से मिल जाता है। लेकिन सामान्‍यत: नेपाली शैली का भोजन दाल-भात आसानी से मिलता है। अगर आप गाइड रखना चाहते हैं तो वह भी मिल सकता है।

Ad
Ad
नैनी लाइव (Naini Live) के साथ सोशल मीडिया में जुड़ कर नवीन ताज़ा समाचारों को प्राप्त करें। समाचार प्राप्त करने के लिए हमसे जुड़ें -

👉 Join our WhatsApp Group

👉 Subscribe our YouTube Channel

👉 Like our Facebook Page

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments