सुना बहुत होगा आज देख भी लीजिए चार चांद, आज बृहस्पति पृथ्वी के सर्वाधिक निकट, देखिए इसके चार चांद

Share this! (ख़बर साझा करें)

गिरीश रंजन तिवारी, नैनीताल ( nainilive.com )- किसी खूबसूरत नजारे का वर्णन करने के लिए अक्सर चार चांद लग जाने का उदाहरण दिया जाता है। हांलांकि आम लोगों ने कभी चार चांद देखे नहीं होते हैं। लेकिन आज आप चाहो तो चार चांद देख भी सकते हो। बल्कि रोज नजर आने वाले चांद को मिलाकर कुल पांच चांद देखे जा सकते हैं।

Ad

सौर मंडल का सबसे विशाल ग्रह बृहस्पति आज गुरुवार को पृथ्वी के सबसे निकट होगा और वर्ष के किसी भी अन्य समय की तुलना में सर्वाधिक चमकीला होगा। यह ग्रह आज पूरी रात दिखाई देगा इसलिए बृहस्पति और उसके चार मुख्य चंद्रमाओं को देखने के साथ ही और उनकी तस्वीरें लेने का यह एक बेहतरीन मौका है। इस अवसर एक साधारण टेलीस्कोप या दूरबीन से बृहस्पति के चार सबसे बड़े चंद्रमा आयो, यूरोपा, गेनीमेड और कैलिस्टो देखे जा सकेंगे जो ग्रह के दोनों ओर चमकीले बिंदुओं के रूप में दिखाई देंगे।

यह भी पढ़ें 👉  एडीएम अशोक जोशी ने जनता दरबार में फरियादियों की समस्याओं का किया मौके पर ही निपटारा


बृहस्पति और पृथ्वी सूर्य के चारों ओर एक अंडाकार मार्ग में यात्रा करते हैं, इसलिए बृहस्पति की पृथ्वी से दूरी लगातार बदलती रहती है। जब दोनों ग्रह सूर्य के एक ही ओर अपने निकटतम बिंदु पर होते हैं, तो बृहस्पति की पृथ्वी से दूरी 5.88 करोड़ रह जाती है। इस दौरान बृहस्पति इतना चमकीला होता है कि बाकी समय सर्वाधिक चमकीला नजर आने वाला ग्रह शुक्र भी इसकी तुलना में मंद नजर आता है। पृथ्वी से सर्वाधिक दूर होने पर बृहस्पति 9.68 करोड़ किमी दूर होता है। यानी आज बृहस्पति पृथ्वी से सर्वाधिक दूरी के मुकाबले 3.80 करोड़ किमी ज्यादा निकट होगा।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल जिले के नगर पालिका परिषद्, रामनगर व नगर पंचायत, कालाढुंगी के रिक्त सदस्यों के पदों के लिए जारी हुई निर्वाचन तिथियां

आर्य भट्ट शोध एवं प्रेक्षण विज्ञान संस्थान के वैज्ञानिक शशि भूषण पांडे ने बताया कि बृहस्पति को सूर्य की एक परिक्रमा करने में 11.86 पृथ्वी-वर्ष लगते हैं। सूर्य के चारों ओर घूमते हुए हर 399 दिनों में एक बार बृहस्पति और पृथ्वी सर्वाधिक निकट आते हैं।

पृथ्वी के बाद सबसे पहले देखे गए थे बृहस्पति के चांद

यह भी पढ़ें 👉  एससी बाहुल्य 11 गॉव बनेंगे मॉडल‘‘ गॉव , शौचालय व सोलर लाईटें संग सडकें भी होगीं ठीक

वर्ष 1610 में, गैलीलियो गैलिली ने एक स्वनिर्मित टेलिस्कोप का उपयोग कर बृहस्पति के चार बड़े चंद्रमाओं- आयो, युरोपा, गैनिमीड और कैलीस्टो की खोज की थी। यह गैलिलियाई चन्द्रमा के नाम से भी जाने जाते हैं। ये चंद्रमा पृथ्वी के अलावा सौर मंडल में देखे गए पहले चंद्रमा थे। बाद में बृहस्पति के कुल 79 चांद खोजे गए। इसके बाद 62 चंद्रमाओं के साथ शनि दूसरे नम्बर पर था। सर्वाधिक चंद्रमाओं के साथ बृहस्पति चंद्रमाओं का राजा कहलाता था।लगभग पौने दो वर्ष पूर्व शनि के 20 नए चंद्रमाओं की खोज को मान्यता मिलने के बाद से शनि 82 चंद्रमाओं के साथ सर्वाधिक चंद्रमा वाला ग्रह बन गया है।

Ad
Ad
नैनी लाइव (Naini Live) के साथ सोशल मीडिया में जुड़ कर नवीन ताज़ा समाचारों को प्राप्त करें। समाचार प्राप्त करने के लिए हमसे जुड़ें -

👉 Join our WhatsApp Group

👉 Subscribe our YouTube Channel

👉 Like our Facebook Page

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments