कुमाऊँ विश्वविद्यालय नैनीताल के एचआरडीसी सेंटर को मिला देश में चौथा स्थान

Share this! (ख़बर साझा करें)

विगत वर्ष कुविवि के एचआरडीसी को मिला था 26वां स्थान

Ad

न्यूज़ डेस्क , नैनीताल ( nainilive.com )- यूजीसी, नई दिल्ली की विशेषज्ञ समिति ने विगत वर्ष के दौरान किये गए प्रदर्शन की समीक्षा करते हुए देश भर के एचआरडीसी की लिस्ट जारी की है। विशेषज्ञ समिति की समीक्षा प्रत्येक एचआरडीसी द्वारा किये गए स्व-मूल्यांकन और समिति के समक्ष ऑनलाइन प्रस्तुतीकरण एवं परीक्षण पर आधारित थी। समिति द्वारा एचआरडीसी को चार समूहों में वर्गीकृत किया गया है अर्थात उच्च प्रदर्शन, मध्यम प्रदर्शन, कम प्रदर्शन और गैर-निष्पादक / डेटा की अपर्याप्तता।

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा वर्ष 1987 में उच्च शिक्षा के शिक्षकों के प्रशिक्षण लिए देश भर में अकादमिक स्टाफ कॉलेज की स्थापना की गई थी। जिन्हें 2015 से यूजीसी-मानव संसाधन विकास केंद्र के नाम से जाना जाता है। वर्तमान में देश में 66 अकादमिक स्टाफ कॉलेज स्थापित किये गए हैं। कुमाऊं विश्वविद्यालय नैनीताल में वर्ष 2006 में एकेडमिक स्टाफ कॉलेज की स्थापना की गई जो वर्तमान में उच्च शिक्षा के शिक्षकों के प्रशिक्षण हेतु उत्तराखंड राज्य का एकमात्र प्रशिक्षण संस्थान है।

यह भी पढ़ें 👉  देवभूमि विचार मंच के माध्यम से एक मंच पर एकत्रित हुए बुद्धिजीवी , राष्ट्र निर्माण में सकारात्मक सहभागिता का किया आह्वान

यूजीसी द्वारा जारी इस सूची में प्रथम स्थान यूनिवर्सिटी ऑफ़ केरला, द्वितीय स्थान अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी एवं तृतीय स्थान मौलाना आजाद नेशनल उर्दू यूनिवर्सिटी हैदराबाद ने प्राप्त किया है। इस वर्ष देश की कई जानी-मानी यूनिवर्सिटियों को पीछे करते हुए कुमाऊँ विश्वविद्यालय ने २६वें स्थान से छलांग लगाते हुए चौथे स्थान को प्राप्त किया है।

ज्ञात हो कि राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय रैंकिंग में सुधार के लिए विश्वविद्यालय द्वारा शैक्षणिक गुणवत्ता, शोध एवं नवाचार के क्षेत्र में किये प्रयास के बलबूते उच्च शैक्षिक संस्थानों की नैशनल इंस्टिट्यूशनल रैंकिंग फ्रेमवर्क 2021 (NIRF 2021) में फार्मेसी कैटेगिरी में 58वां स्थान एवं क्यूएस एशिया रैंकिंग में भी 551-600 स्थान मिला है। इसी के साथ इंडिया टुडे ग्रुप की ओर से कराए गए सर्वे में भी कुविवि को प्रदेश में पहला एवं देश में 27वां स्थान मिला है।

यह भी पढ़ें 👉  डीएम गर्ब्याल ने इन स्थानों में लगाई आदर्श आचार संहिता

विश्वविद्यालय की इस उपलब्धि पर विवि के कुलपति प्रो० एन.के जोशी ने बधाई देते हुए कहा कि यह सफलता और राष्ट्रीय पहचान हमारी प्रतिभाशाली फैकल्टी, समर्पित एवं ईमानदार गैर-शिक्षण सहयोगियों के निरंतर प्रयासों का परिणाम है। कुलपति प्रो० जोशी ने कहा कि सामुहिक प्रयासों से विश्वविद्यालय लगातार उच्च शिक्षा के शीर्ष केंद्र के रूप में उभरने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है। 

हिमान आयुर्वेदा क्लिनिक
हिमान आयुर्वेदा क्लिनिक

इस उपलब्धि पर यूजीसी एचआरडीसी सेंटर की निदेशक प्रो० दिव्या उपाध्याय जोशी ने प्रसन्नता जताते हुए कहा कि ये प्रारंभिक सफलता है और अभी रैंकिंग के पहले पायदान में आने हेतु प्रयास किये जा रहे हैं जिसके लिए कई अभिनव प्रयोग एचआरडीसी सेंटर द्वारा किए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  कुमाऊं विश्वविद्यालय का 17वां दीक्षांत समारोह हुआ संपन्न, राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह(से नि) ने 58640 विद्यार्थियों को प्रदान की उपाधियाँ

सहायक निदेशक डॉ० रीतेश साह ने कहा कि यह मानव संसाधन विकास केंद्र के कार्मिकों की कड़ी मेहनत से यह उपलब्धि प्राप्त हुई है साथ ही विश्वविद्यालय के शिक्षकों, अधिकारियों और कर्मचारियों तथा देश के विभिन्न विश्वविद्यालयो के विद्वान रिसोर्स पर्सनस व प्रतिभागियों का भी इस उपलब्धि में महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

इस अवसर पर कुलसचिव श्री दिनेश चंद्रा, निदेशक डीएसबी परिसर प्रो० एल०एम०जोशी, निदेशक शोध एवं प्रसार प्रो० ललित तिवारी, निदेशक आईक्यूएसी प्रो० राजीव उपाध्याय, निदेशक डीआईसी प्रो० संजय पंत, उप कुलसचिव श्री दुर्गेश डिमरी, श्री विधान चौधरी, श्री प्रकाश पांडेय्, श्री नवीन पनेरू समेत कूटा के सदस्यों ने प्रसन्नता जाहिर करते हुए बधाई एवं शुभकामनायें दी गई ।

Ad
Ad
नैनी लाइव (Naini Live) के साथ सोशल मीडिया में जुड़ कर नवीन ताज़ा समाचारों को प्राप्त करें। समाचार प्राप्त करने के लिए हमसे जुड़ें -

👉 Join our WhatsApp Group

👉 Subscribe our YouTube Channel

👉 Like our Facebook Page

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments