हाईकोर्ट ने हिमालयी जनजाति को वैक्सीनेशन न होने पर लिया संज्ञान

Share this! (ख़बर साझा करें)

न्यूज़ डेस्क , नैनीताल ( nainilive.com )- हाईकोर्ट ने हिमालयी जनजाति वन रावत को वैक्सीनेशन न होने के मामले में संज्ञान ले लिया है। हाईकोर्ट ने इस संबंध में जनहित याचिका दाखिल करने के साथ ही सुनवाई की प्रक्रिया भी शुरू कर दी है। वन रावत की ओर से अधिवक्ता सुहास रतन जोशी पैरवी करेंगे। अधिवक्ता ही इस मामले को मुख्य न्यायाधीश के संज्ञान में लाए थे।


जनहित याचिका में कहा गया है कि हिमालयी जनजाति वन रावत जनजाति की जनसंख्या महज 650 है। इस जनजाति के सभी लोग गरीबी रेखा से नीच जीवनयापन करते हैं। जनजाति पिथौरागढ़ जिले के तीन विकास खंडों धारचूला, डीडीहाट और कनालीछीना में रहती है। वन रावत की 95 प्रतिशत आबादी के पास सेल फोन नहीं है। जबकि एक भी सदस्य के पास स्मार्ट फोन नहीं है। ऐसे में वह टीकाकरण के लिए कोविन एप पर पंजीकरण नहीं कर सकते हैं। वैक्सीनेशन सेंटर भी उनकी बस्तियों से 15 से 25 किमी दूर हैं और कोविड कर्फ्यू के दौरान उनके लिए वहां पहुंचना मुश्किल है।

यह भी पढ़ें 👉  बिजली कर्मचारियों का तीन दिवसीय पेन डाउन प्रर्दशन शुरू

याचिका में पिथौरागढ़ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी एचसी पंत के बयान का भी उल्लेख है। अधिकारी ने कहा था कि न तो केंद्र और न ही राज्य सरकार ने वनराजियों के वैक्सीनेशन के लिए कोई विशेष निर्देश जारी किया है। अभी तक इसके लिए कोई अलग कार्यक्रम तय नहीं है। याचिकाकर्ता का कहना है कि वन रावत अपनी खुद की भाषा बोलते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  सतर्कता : नैनीताल जिले में भी स्कूलों के बच्चों की कोरोना जांच बढ़ाई

इस समाज के ज्यादातर बच्चे स्कूल भी नहीं जाते हैं। इन हालातों में उन्हें महामारी की कोई जानकारी भी नहीं है। ऐसे में इस सबसे छोटी जनजाति पर खतरा मंडरा रहा है। याचिका में इस हिमालयी जनजाति के टीकाकरण के लिए सरकार को निर्देश देने की मांग की गई है।

यह भी पढ़ें 👉  लिफ्ट के बहाने पुलिस कर्मी ने लड़की के साथ छेड़खानी
नैनी लाइव (Naini Live) के साथ सोशल मीडिया में जुड़ कर नवीन ताज़ा समाचारों को प्राप्त करें। समाचार प्राप्त करने के लिए हमसे जुड़ें -

👉 Join our WhatsApp Group

👉 Subscribe our YouTube Channel

👉 Like our Facebook Page

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments