चिंतनीय : नीति आयोग की रिपोर्ट में आये नैनीताल के निवासियों के स्वास्थय को लेकर आये चिंतनीय तथ्य, नैनीताल का पीने के पानी से बढ़ रही बीमारियां

Share this! (ख़बर साझा करें)

नैनीताल ( nainilive.com )-  नैनीताल के पीने के पानी से एक तरफ स्थानीय जनता अपनी प्यास बुझा रही है , वहीँ दूसरी तरफ इसको पीने से कई गंभीर बीमारियां भी उत्पन्न हो रही है। यह खुलासा भी भारत सरकार के नीति आयोग की रिपोर्ट ने किया , जिससे पर्यटन नगरी नैनीताल के निवासियों की चिंता बढ़ा दी है । इस रिपोर्ट के अनुसार एक ओर जहां बीमारियां बढने के संकेत दिए हैं, वहीं नैनीताल नगर में शराब व अन्य नशा करने वालों की संख्या बढ़ने का जिक्र किया है। नैनीताल शहर के लोगों में किडनी में पथरी, डायबिटीज और हार्टअटैक की दिक्कतें बढ़ रही हैं। मैदानी क्षेत्रों की अपेक्षा नैनीताल में इन बीमारियों से ग्रसित रोगी अधिक मिले हैं। साथ ही नैनीताल में नशेड़ियों की संख्या भी अन्य शहरों के मुकाबले अधिक है।

Ad
Ad

मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए आयोग ने नैनीताल में नेशनल अर्बन हेल्थ मिशन योजना के तहत दो सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खोलने की भी सिफारिश की है। इससे मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मिल सकेंगी। बीते दिवस इस रिपोर्ट के परिणाओं को संयुक्त मजिस्ट्रेट नैनीताल प्रतीक जैन ने कलक्ट्रेट सभागार में सर्वे रिपोर्ट की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि नीति आयोग की टीम ने पिछले दिनों स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर नैनीताल समेत लुधियाना (पंजाब), बारंग (झारखंड), बंगलुरु (कर्नाटक) और शिलांग (मेघालय) में सर्वे किया था। सर्वे में पाया गया कि नैनीताल जैसे पर्वतीय शहर में रह रहे लोग डायबिटीज, हार्टअटैक और किडनी में पथरी की समस्या से ग्रसित हैं। वहीं नैनीताल में शराब समेत अन्य तरह का नशा करने वालों की संख्या भी कहीं अधिक है।

हिमान आयुर्वेदा क्लिनिक
हिमान आयुर्वेदा क्लिनिक

उन्होंने बताया कि नीति आयोग की टीम जल्द ही रांची, जोधपुर और जबलपुर में भी सर्वे करेगी। संयुक्त मजिस्ट्रेट जैन ने बताया कि आयोग ने नैनीताल के सर्वे के बाद पाया कि शहर की स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार के लिए और अधिक बेहतर कदम उठाने की जरूरत है। आयोग ने यातायात, पुलिस व नगर पालिका को भी स्वास्थ्य सुविधाओं से जोड़ा जाए। संयुक्त मजिस्ट्रेट ने बताया कि नीति आयोग की टीम ने नैनीताल में लगने वाले जाम के दौरान एंबुलेंस को समय से अस्पताल तक कैसे पहुंचाया जाए इस पर भी संबंधित अधिकारियों के साथ विचार विमर्श किया। 25 जून को दिल्ली में होने वाले सेमीनार में नैनीताल शहर की व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने के संबंध में निर्णय लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान केंद्र देहरादून द्वारा Water scarcity and Springshed Management in the Indian Himalayan Region पर विशेषज्ञ व्याख्यान का आयोजन
Ad
Ad
नैनी लाइव (Naini Live) के साथ सोशल मीडिया में जुड़ कर नवीन ताज़ा समाचारों को प्राप्त करें। समाचार प्राप्त करने के लिए हमसे जुड़ें -

👉 Join our WhatsApp Group

👉 Subscribe our YouTube Channel

👉 Like our Facebook Page

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments